Modern History

सहायक संधि तथा व्यपगत नीति-हड़प नीति

सहायक संधि तथा व्यपगत नीति-हड़प नीति – Subsidiary Alliance and Doctrine of LAPSE

भारत में ब्रिटिश शक्ति का विस्तार भारत में ब्रिटिश शक्ति का विस्तार 5 लोगों ने किया लॉर्ड क्लाइव, वारेन हेस्टिंग्स, कार्नवालिस, वेलेजली, डलहौजी | Subsidiary Alliance and Doctrine of LAPSE in hindi क्लाइव में अंग्रेजी साम्राज्य की नींव डाली वारेन हेस्टिंग्स ने नींव को मजबूत किया कार्नवालिस ने इमारत खड़ी करना प्रारंभ किया वेलेजली ने …

सहायक संधि तथा व्यपगत नीति-हड़प नीति – Subsidiary Alliance and Doctrine of LAPSE Read More »

indian king and british

बंगाल में द्वैध शासन (1765-72) – Bangal me Dwaidh Shasan

बंगाल में द्वैध शासन की शुरुआत कब हुई – 1765 बंगाल में द्वैध शासन लागू करने का श्रेय किसे है – रॉबर्ट क्लाइव बंगाल में द्वैध शासन व्यवस्था का विश्लेषण कीजिए बंगाल में द्वैध शासन (1765-72) बक्सर के युद्ध के पश्चात्, रॉबर्ट क्लाइव ने बंगाल में द्वैध शासन की शुरुआत की जिसमें दीवानी (राजस्व वसूलने) …

बंगाल में द्वैध शासन (1765-72) – Bangal me Dwaidh Shasan Read More »

Marle Minto Sudhar 1909 in Hindi Upsc Notes

Marle Minto Sudhar 1909 in Hindi Upsc Notes

Marle Minto Sudhar 1909 in Hindi bill 1909 के अधिनियम को विस्तार से समझाइये मार्ले-मिन्टो सुधार- Marle Minto Sudhar 1909 in Hindi marle minto sudhar kab hua ? अक्टूबर 1906 में आगा खां के नेतृत्व में एक मुस्लिम प्रतिनिधिमंडल, जिसे शिमला प्रतिनिधिमण्डल कहा जाता है, वायसराय लार्ड मिन्टो से मिला और मांग की कि मुसलमानों के …

Marle Minto Sudhar 1909 in Hindi Upsc Notes Read More »

Conquest of Bengal Battle of Plassey and Battle of Buxar

Conquest of Bengal Battle of Plassey and Battle of Buxar Notes

Conquest of Bengal Battle of Plassey and Battle of Buxar Notes Conquest of Bengal अंग्रेजों की बंगाल विजय Conquest of Bengal Battle of Plassey and Battle of Buxar Notes – बंगाल के नवाब बंगाल, बिहार और ओडिशा के शासक थे। 18वीं सदी में बंगाल से यूरोपको निरंतर कच्चे उत्पादों जैसे शोरा, चावल, नील, काली मिर्च, …

Conquest of Bengal Battle of Plassey and Battle of Buxar Notes Read More »

Carnatic Wars clive

फ्रांसीसियों का भारत आगमन – कर्नाटक युद्ध (Carnatic Wars in Hindi UPSC)

Carnatic Wars in Hindi UPSC carnatic wars upsc3rd carnatic war2nd carnatic warthird carnatic warsecond carnatic warfirst carnatic war1st carnatic waranglo carnatic warsecond carnatic war upscresult of third carnatic war अन्य यूरोपीय कंपनियों की भांति फ्रांसीसी कंपनी भी वाणिज्यिक गतिविधियों और विचारों की उपज थी। अन्य समकालीन यूरोपीय शक्तियों की तुलना में फ्रांसीसी शक्ति को भारतीय …

फ्रांसीसियों का भारत आगमन – कर्नाटक युद्ध (Carnatic Wars in Hindi UPSC) Read More »

angrezoin ka bharat agman upsc

अंग्रेजों का भारत आगमन

अंग्रेजों का भारत आगमन उन यूरोपीय शक्तियों में, जिन्होंने भारत और हिंद महासागरीय क्षेत्र में आकर नयी व्यापारिक गतिविधियां आरम्भ की थीं. अंग्रेज सर्वाधिक सफल एवं प्रभावकारी सिद्ध हुए। गौर करने लायक बात यह है कि पूर्वी देशों की ओर व्यापारिक प्रतिस्पर्धा में अंग्रेज अपेक्षाकृत देर से आए, किंतु वे शेष यूरोपीय शक्तियों को हराते …

अंग्रेजों का भारत आगमन Read More »

डच ( डचों )का भारत आगमन

डच ( डचों )का भारत आगमन

डच ( डचों )का भारत आगमन डच – आगमन एवं गतिविधियां स्पेन का पतन होने के पश्चात् पुर्तगाली शक्ति बिखर गई और सत्रहवीं शताब्दी के मध्य तक डचों ने उसका स्थान ग्रहण कर लिया। सोलहवीं शताब्दी से ही डच अपनी वाणिज्यिक और नौसैनिक शक्ति को बढ़ा रहे थे। वे पुर्तगालियों द्वारा लाए गए पूरब के …

डच ( डचों )का भारत आगमन Read More »

भारतीय रियासतों के प्रति ब्रिटिश नीति

भारतीय रियासतों के प्रति ब्रिटिश नीति

भारतीय रियासतों के प्रति ब्रिटिश नीति भारतीय रियासतों के प्रति ब्रिटिश नीति भारतीय रियासतों के साथ अंग्रेजों के संबंध दो चरणीय नीति से निर्देशित थे- पहली, साम्राज्य की रक्षा के लिये उनसे संबंधों की स्थापना एवं उनका उपयोग तथा दूसरा, उन्हें पूर्णतया साम्राज्य के अधीन कर लेना (अधीनस्थ संघीय नीति)। भविष्य में ब्रिटिश शासन के …

भारतीय रियासतों के प्रति ब्रिटिश नीति Read More »

भारत में प्रेस का विकास

भारत में प्रेस का विकास

भारत में प्रेस का विकास Bharat me press ka vikas anugyapti adhiniyam panjikaran adhiniyam vernacular press act kya tha भारत में प्रेस का विकास– भारत का पहला समाचार-पत्र जेम्स आगस्टस हिक्की ने 1780 में प्रकाशित किया, जिसका नाम था द बंगाल गजट या कलकत्ता जनरल एडवरटाइजर। किंतु सरकार के प्रति आलोचनात्मक रवैया अपनाने के कारण …

भारत में प्रेस का विकास Read More »

Bharat mein angrezoin ki Bhoo- Rajaswa Niti

Bharat mein angrezoin ki Bhoo- Rajaswa Niti

Bharat mein angrezoin ki Bhoo- Rajaswa Niti -भारत में अंग्रेजों की भू-राजस्व नीतियां Bharat mein angrezoin ki Bhoo- Rajaswa Niti -भारत में अंग्रेजों के आगमन से पूर्व भारत में जो परम्परागत भूमि व्यवस्था कायम थी उसमें भूमि पर किसानों का अधिकार था तथा फसल का एक भाग सरकार को दे दिया जाता था। 1765 में …

Bharat mein angrezoin ki Bhoo- Rajaswa Niti Read More »