Lekhpal Exam Chapter 1 in Hindi

Lekhpal Exam Chapter 1 in Hindi

Gram Samaj Avam Vikas Chapter 1

ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए राज्य सरकार तथा केन्द्र सरकार द्वारा अनेक कल्याणकारी योजनाओं का निर्माण किया जाता है। इन योजनाओं का कार्यान्वयन ग्रामीण क्षेत्रों से सम्बन्धित महत्वपूर्ण विभागों से सम्बन्धित अधिकारियों व कर्मचारियों के माध्यम से किया जाता है जिसका विवरण निम्न प्रकार है

खण्ड विकास अधिकारी

  • खण्ड विकास अधिकारी के प्रमुख कार्य निम्न प्रकार हैंखण्ड विकास अधिकारी सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा करता है।
  • वह उच्चाधिकारियों के निर्देशों के अनुसार कार्य करता है।
  • वह अपने विकास खण्ड में कार्य प्रसार अधिकारियों की सहायता से पंचायत समिति द्वारा निर्धारित निर्णयों का कार्यान्वयन करता है। वह विभिन्न एकीकृत योजनाएँ तैयार करता है तथा उनका क्रियान्वयन करता है। वह इन योजनाओं का हिसाब-किताब तथा लेखा तैयार करता है। खण्ड विकास अधिकारी ग्रामीण जनता के लिए सरकार के रूप में भूमिका निभाते हैं तथा ग्रामीणों के प्रत्यक्ष नियंत्रण में रहते हैं। वह अपने विकास खण्ड के समस्त कार्यों, प्रगति आदि से समय-समय पर अपने उच्चाधिकारियों को अवगत कराता है। खण्ड विकास अधिकारी खण्ड के विकास से सम्बन्धित प्रशासनिक स्टाफ की कार्य कुशलता में वृद्धि के लिए अनेक कदम उठाता है।
  • वह जन शिकायतें सुनता है तथा उनके निराकरण की उचित योजना बनाता है।
  • एक विकास खण्ड के ग्रामों का विकास खण्ड विकास अधिकारी पर निर्भर करता है।

(Block Development Officer) विकास खण्ड का मुख्य कार्यपालन अधिकारी कौन होता है?

लेखपाल

लेखपाल कौन होता है?

लेखपाल गाँव स्तर पर सरकार का प्रतिनिधि होता है। 1906 तक इसके कार्यों का भुगतान गाँव द्वारा स्वयं किया जाता था लेकिन अब इसको सरकार द्वारा वेतन दिया जाता है। इसके अधिकार में एक या दो गाँव होते हैं।

1.2.1 लेखपाल के कर्तव्य

लेखपाल के कर्तव्य निम्नलिखित होते हैं-

लेखपाल के पास उसके अधिकार क्षेत्र के गाँव/गाँवों के खेती सम्बन्धी सभी कागजात रहते हैं जिन्हें भू-अभिलेख (Land Record) कहते हैं। यदि कोई किसान अपनी जमीन के सन्दर्भ में कोई जानकारी चाहता है तो लेखपाल सरकारी शुल्क लेकर उसको जानकारी उपलब्ध कराता है। लेखपाल अपने कागजात में खेत का नाम, लगान, उसका मालिक, उसका नम्बर आदि नोट करता है। वह खेतों में होने वाले परिवर्तन के अनुसार कागजों में परिवर्तन करता है। अनावृष्टि, सूखा/अकाल, बाढ़ आदि की जानकारी से अपने उच्चाधिकारियों को अवगत कराता है। इसके आधार पर ही सरकार मुआवजे का निर्धारण करती है। लेखपाल के पास प्रत्येक गाँव का नक्शा होता है। इस नक्शे में गाँव के खेत, रास्ते, सड़कें, नदी, तालाब, बाजार, मकान आदि अंकित होते हैं। इस नक्शे में खेत का क्षेत्रफल दिया होता है, उसी में उसका नम्बर भी लिखा रहता है। खेत के नम्बर की मदद से खेत को पहचानने में आसानी रहती है।

लेखपाल का कर्तव्य है कि वह प्रत्येक वर्ष खेतों की नाप करे तथा कमी-वेशी को नक्शे में अकित करे। किसान के स्वामित्व की समस्त कृषि भूमि का विवरण एक रजिस्टर में एक ही स्थान पर खाते के रूप में लिखा जाता है, इसे जमाबन्दी कहते हैं। इसकी दो प्रतियाँ तैयार की जाती हैं जिसकी एक प्रति तहसील कार्यालय में तथा दूसरी प्रति सम्बन्धित लेखपाल के पास रहती है। प्रत्येक चार वर्ष में जमाबन्दी का नवीनीकरण किया जाता है। इन चार वर्षों में किन्हीं कारणों से किसान के स्वामित्व की भूमि में कोई परिवर्तन हुआ है, तो उसे लेखपाल द्वारा जमाबन्दी रजिस्टर में लिख लिया जाता है। आजकल जमाबन्दी का कार्य कम्प्यूटर से भी किया जाने लगा है। इससे कम समय में ही किसान अपनी भूमि सम्बन्धी आंकड़ों की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

-खण्ड विकास अधिकारी उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा चयनित खण्ड विकास अधिकारी का प्रशिक्षण कहाँ होता है?

-‘ग्रामीण विकास संस्थान’ में एक विकास खण्ड के ग्रामों के विकास की जिम्मेदारी किस पर निर्भर करती है?

-खण्ड विकास अधिकारी पर

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *