Upcoming Mission’s of ISRO – UPSC

दुनिया भर में विभिन्न अंतरिक्ष संगठन दशकों से अंतरिक्ष में अज्ञात खगोलीय पिंडों की जांच करने के लिए तत्पर हैं।NASA, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी और अन्य संगठनों ने चंद्रमा, मंगल और अन्य ग्रहों पर निगरानी, अनुसंधान के लिए मिशन भेजे हैं।हालांकि, एक अंतरिक्ष संगठन जिस पर बहुत कम ध्यान दिया जाता है, वह हमारा अपना भारतीय अंतरिक्ष और अनुसंधान संगठन (ISRO) है। यह एक आश्चर्यजनक बात है,कि इसरो ने Science Fiction फिल्म इंटरस्टेलर के बजट से कम लागत पर जटिल चंद्रयान -2 मिशन को सफलतापूर्वक पूरा किया

ISRO UPSC

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) भारत की राष्ट्रीय अंतरिक्ष एजेंसी है, जिसका मुख्यालय बेंगलुरु में है।यह अंतरिक्ष विभाग (DOS) के तहत संचालित होता है जिसकी देखरेख सीधे भारत के प्रधान मंत्री द्वारा की जाती है, ISRO अंतरिक्ष-आधारित अनुप्रयोगों, अंतरिक्ष अन्वेषण और संबंधित प्रौद्योगिकियों के विकास से संबंधित कार्यों को करने के लिए भारत की प्राथमिक एजेंसी है। यह दुनिया की छह सरकारी अंतरिक्ष एजेंसियों में से एक है, जिनके पास पूर्ण लॉन्च क्षमताएं हैं

इसरो ने अंतरिक्ष की दौड़ में भारत की स्थिति को और बेहतर बनाने के लिए सूर्य, चंद्रमा और अन्य गंतव्यों के लिए भविष्य के कई अंतरिक्ष मिशनों की योजना बनाई है, जिनमें से कई अगले साल की शुरुआत में लॉन्च होने के लिए तैयार हैं।

ADITYA L1 (March 2023)

इसरो के अनुसार, आदित्य-एल1 भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी की पहली वेधशाला श्रेणी की अंतरिक्ष आधारित सौर परियोजना (observatory-class space-based solar mission) होगी।अंतरिक्ष यान सूर्य-पृथ्वी प्रणाली के प्रारंभिक लैग्रेंज बिंदु (Lagrange point), L1 के चारों ओर एक प्रभामंडल कक्षा में तैनात होगा, और सूर्य की परतों, जैसे क्रोमोस्फीयर, कोरोनल परत और फोटोस्फीयर की जांच के लिए विद्युत डिटेक्टरों सहित सात पेलोड ले जाएगा।

चंद्रयान -3 (June 2023)

चंद्रयान -3 परियोजना चंद्रयान -2 मिशन के लिए एक अनुवर्ती मिशन होगा, जो 2019 में एक गलती के कारण विफल हो गया था, और अपने पूर्ववर्ती द्वारा शुरू किए गए अनुसंधान और अवलोकनों को आगे बढ़ाएगा।चंद्रयान-2 की तरह इस परियोजना में एक लैंडर और एक रोवर होगा लेकिन इसमें ऑर्बिटर शामिल नहीं होगा।3.

XPoSat ( 2nd Quarter of 2023)

XPoSat

एक्सपोसैट एक उपग्रह वेधशाला (space observatory)है जो कॉस्मिक एक्स-रे के ध्रुवीकरण (polarisation) पर शोध करेगी। इस वेधशाला को इसरो के SSLV रॉकेट द्वारा x-ray binaries, pulsars और अन्य अंतरिक्ष घटनाओं पर शोध करने के लिए 5 साल के मिशन पर लॉन्च किया जाएगा।

One comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *