meri policy mere hath , farmers

Meri Policy Mere Hath & Pradhanmantri Fasal Bima Yojana in Hindi

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (Pradhanmantri Fasal Bima Yojana) को शुरू हुए अब तक 6 वर्ष हो चुके हैं और यह सफलतापूर्वक सातवे वर्ष में कार्य कर रही है इस योजना की शुरुआत 2016 में मध्य प्रदेश से की गई थी।

Meri Policy Mere Hath मेरी पॉलिसी मेरे हाथ

Pradhanmantri fasal Bima Yojana के सातवें वर्ष में प्रवेश करने के साथ ही ‘फसल बीमा पॉलिसी’ को door to door देने का कार्यक्रम मेरी पॉलिसी मेरे हाथ (Meri Policy Mere Hath) के द्वारा शुरू किया जाएगा।

Meri Policy Mere Hath अभियान का उद्देश्य है, कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत समस्त भूमि अभिलेख नीतियां और शिकायत निवारण के बारे में सभी को उचित जानकारी मिले। अगर किसानों को योजना और शिकायत निवारण तंत्र के बारे में समस्त जानकारी होगी तो यह योजना प्रभावी ढंग से कार्य कर पाएगी।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (Pradhanmantri Fasal Bima Yojana) क्या है?

fasal bima yojana
  • यह योजना 2016 में शुरू की गई थी इसके तहत खराब मौसम के चलते फसलों को होने वाले नुकसान के एवज में बीमा सुरक्षा दी जाती है इस योजना के अंतर्गत पूर्व में चल रही राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना और संशोधित राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना को मिला दिया गया था अर्थात दोनों योजनाओं का विलय करके प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना शुरू की गई थी। इस योजना का उद्देश्य खेती में निरंतरता बनाए रखना था और किसानों की आय को स्थिर रखना था जिससे किसानों की आय दोगुनी करने का सरकार का महत्वकांक्षी लक्ष्य पूरा हो सके।
  • pradhanmantri fasal Bima Yojana के अंतर्गत सभी रबी फसलों के लिए किसानों का प्रीमियम 1.5% और सभी खरीफ फसलों के लिए 1.5% प्रीमियम देना होगा तथा बची हुई राशि का वाहन केंद्र सरकार और राज्य सरकार के द्वारा किया जाता है वाणिज्यिक और बागवानी फसलों के लिए प्रीमियम 5:00 पर्सेंट होगा।
  • प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2.2 में यह बदलाव किया गया कि 2020 के खरीफ फसलों का नामांकन किसान स्वयं करेंगे ।
  • साथ ही बदलाव के तहत केंद्रीय सब्सिडी को तीस पर्सेंट तक सीमित कर दिया गया है।
  • इस योजना के अंतर्गत बीमा कंपनियों द्वारा एकत्र किए गए सारे प्रीमियम का 0.5% शिक्षा संचार और सूचना पर खर्च करना अनिवार्य बना दिया गया है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का अब तक का प्रदर्शन

  • इस योजना का लाभ इन 5 वर्षों में 8.3 करोड़ से ज्यादा किसानों ने उठाया है।
  • इस योजना के अंतर्गत अब तक 20.16 करोड़ किसानों ने बीमा के लिए आवेदन किया है।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.